पोषक तत्वों से भरपूर है गुलकंद

पोषक तत्वों से भरपूर है गुलकंद

गुलाब के पत्तों से बना हुआ गुलकंद स्वाद में तो बेहतरीन होता ही है व शरीर को देने वाले जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसका प्रयोग न केवल पान को मीठा बनाने में बल्कि आयुर्वेदिक दवाओं को बनाने में भी किया जाता है। अद्भुत स्वाद होने के कारण गुलकंद को भारतीय खाने में भी खूब प्रयोग किया जाता है तो चलिए जानते हैं गुलकंद और किन कारणों से लाभकारी होता है।

त्वचा की रंगत सुधारने के लिए :

गुलकंद में मौजूद कुछ गुणों के कारण यह शरीर में पानी की सही मात्रा को बनाए रखता है जिससे त्वचा में कसाव बना रहता है और त्वचा निखरी निखरी दिखती है जो अक्सर कम पानी पीने की वजह से बेजान दिखती है। एंटीबैक्टीरियल गुणों की मौजूदगी के कारण यह चेहरे को संक्रमण और मुंहासों से बचाता है। त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए रक्त का सही प्रवाह और रक्त का साफ रहना बेहद जरूरी है इसलिए गुलकंद का नियमित सेवन जरूर करे।

आंखों की बीमारियों के बचाव में :

गुलकंद का सेवन आंखों की रोशनी बढ़ाने में भी बहुत गुणकारी माना जाता है इससे यह आंखों का रोग कंजक्टिवाइटिस और जलन जैसी समस्याओं से छुटकारा दिला कर आंखों को स्वस्थ रखता है।

पेट के स्वास्थ्य के लिए :

आजकल की जीवन शैली में खानपान को लेकर पेट में गड़बड़ी की समस्या आम है।यहां तक की काफी लोग खाली पेट एंटी एसिड दवाइयों का सेवन करते हैं ।गुलकंद में कई खनिज तत्व जैसे विटामिन ई,सी और बी अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं जिससे पेट से संबंधित समस्याओं जैसे कब्ज, अपच, पेट में मरोड़, मुंह और गले में छाले, जलन आदि से छुटकारा मिलता है। खासकर गर्मियों के मौसम में गुलकंद का नियमित सेवन बेहतरीन माना जाता है क्योंकि यह पेट में ठंडक देता है और जलन जैसी समस्याओं से निजात दिलाता है।

मुंह के छालों में आराम देता है :

यदि मुंह में छाले हो जाते हैं तो दर्द और जलन के कारण आप कुछ खा पी नहीं सकते ऐसे में आराम देने के लिए गुलकंद का उपयोग करना उचित रहता है क्योंकि गुलकंद की तासीर ठंडी होती है इसलिए यह शरीर को ठंडक पहुंचाता है और जलन में राहत देकर छालों को ठीक करता है।

गुलकंद के फायदे सनबर्न में :

गर्मियों में तो गुलकंद का प्रयोग नियमित रुप से करें क्योंकि यह शरीर में गर्मी को कम करके ठंडक पहुंचाता है और सूरज की पराबैंगनी किरणों से बचाव करके सनबर्न से भी बचाता है।

थकान को दूर करने में :

यदि आप पूर्णतया ऊर्जावान महसूस नहीं करते हैं या थके हुए रहते हैं तो ऐसे में गुलकंद का सेवन जरूर करें आयुर्वेद में भी गुलकंद को मांसपेशियों में दर्द सुस्ती मानसिक तनाव आदि को दूर करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह दिमाग को दुरुस्त करके याददाश्त को भी बेहतर बनाने में मदद करता है।

वजन कम करने में गुणकारी :

आमतौर पर यदि हमारा मेटाबॉलिज्म स्वस्थ रहता है तो शरीर में कैलोरी कम मात्रा में होने के कारण वजन नियंत्रित रहता है और यह कार्य गुलकंद के सेवन से बड़े ही आसानी से हो सकता है क्योंकि गुलकंद में लैक्सेटिव और डयूरेटिक नामक तत्व होते हैं जो मेटाबॉलिज्म को तेज करने में लाभदायक होते हैं। गुलाब और गुलकंद को वजन घटाने के लिए काफी पहले से प्रयोग लाया जाता रहा है इसलिए गुलाब के पत्ते पानी में उबालकर उस पानी का सेवन करें।

गर्भावस्था में फायदेमंद :

गर्भावस्था में कुछ आम समस्याएं जैसे कब्ज जलन एसिडिटी आदि से छुटकारा पाने के लिए गर्भवती महिला इसका सेवन कर सकती हैं। इसमें कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जिससे यह आंतों में पानी की मात्रा को सही बनाए रखता है और मल को पतला करके पेट की समस्याओं में राहत देता है इसलिए आयुर्वेद भी गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन करने की अनुमति देता है।


Share it
Top
To Top