बुढ़ापे के प्रभाव को कम कर सकता है दूध

बुढ़ापे के प्रभाव को कम कर सकता है दूध

दूध मनुष्य के लिए सर्वोत्तम आहार है क्योंकि दूध में वे सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो कि शरीर के सम्पूर्ण विकास के लिए अनिवार्य होते हैं। आयुर्वेद ग्रंथों में पुरुषों के लिए प्रतिदिन कम से कम 250 मिली ग्राम यानी कि लगभग 1 गिलास दूध बहुत आवश्यक बताया गया है। आयुर्वेद के अनुसार शाम के भोजन के 2-3 घंटे बाद तथा सोने से 1 घंटा पहले प्रतिदिन सभी को दूध का सेवन अवश्य करना चाहिए, खासकर पुरुषों के लिए तो इसे अनिवार्य ही बताया गया है क्योंकि -पुरुषों को घर से बाहर दौड़-धूप तथा शारीरिक श्रम करना पड़ता जिसकी भरपाई सिर्फ दूध जैसा कम्पलीट फूड ही कर सकता है। - प्रतिदिन के काम-काज के दौरान हमारे शरीर के हजारों पुराने कोष न" हो जाते हैं, तथा नए कोषों के बनाने के लिए दूध ही सर्वश्रे" साधन है। -स्त्रियों की बजाय पुरुषों में उम्र का ढलान ज्यादा तेजी से आता है तथा पुरुषों में बुढ़ापे के प्रभाव को धीमी करने में दूध बेहद कारगर सिद्ध होता है।


Share it
Top
To Top