स्किन की हर समस्या का निजात मुल्तानी मिट्टी में

स्किन की हर समस्या का निजात मुल्तानी मिट्टी में

खूबसूरती को निखारने व संवारने के लिए मुल्तानी मिट्टी का उपयोग शुरू से ही होता आया है। दरअसल, इसमें कई ऐसी क्वॉलिटीज हैं, जिन्हें अगर आप जान लें, तो इसे और बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर सकती हैं।

स्किन को देती है शाइनिंग : मुल्तानी मिट्टी स्किन को क्लीन कर मिनटों में शाइनिंग देती है। दरअसल, इसमें मैग्नीशियम क्लोराइड होता है, जो स्किन पर आने वाली प्रॉब्लम्स से आपको निजात दिलाता है।

ऑयली स्किन के लिए फायदेमंद : अगर आपकी स्किन ऑयली है, तो आपके चेहरे के लिए मुल्तानी मिट्टी का पेस्ट सबसे फायदेमंद रहेगा। सुबह या शाम जब भी समय मिले, इसे तकरीबन पांच मिनट के लिए फेस पर लगा लें। इससे स्किन का ऑयलीपन खत्म हो जाएगा। दरअसल, स्किन में ऑयल होने से त्वचा के रोम छिद्र बंद हो जाते है, जो कील-मुंहासे व दाने होने की खास वजह बनते हैं। यही नहीं, ऑयली स्किन के कारण कई बार ब्लैकहेड्स और वाइट हेड्स भी हो जाते है, परन्तु मुल्तानी मिट्टी के इस्तेमाल से यह समस्या आसानी से दूर हो जाती है।

मुंहासे से छुटकारा : मुल्तानी मिट्टी में पाए जाने वाले तत्व फेस से मुंहासे हटाने में आपकी मदद करते हैं। यही वजह है कि मुंहासों की समस्या या ऑयली स्किन पर इसका इस्तेमाल बहुत फायदेमंद माना जाता है।

कॉम्पलेक्शन : चेहरे पर टैनिंग हो तो मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल लाभकारी होता है। यह चेहरे की रंगत को निखार देती है परन्तु इसे लगाने से एक या दो दिन में तुरंत आराम नहीं मिलता है, बल्कि इसका फायदा आपको 10 से 12 दिन बाद मिलना शुरू होता है। दरअसल, यह फायदा तो धीरे-धीरे करती है, लेकिन चेहरे पर इसका असर लंबे समय तक रहता है।

टेक्सचर : स्किन के टेक्सचर को इम्प्रूव करने में भी मुल्तानी मिट्टी बेहद काम आती है। अगर आपकी स्किन पर सफेद दाग हो या किसी प्रकार के धब्बे पड़ने लगें, तो मुल्तानी मिट्टी का उपयोग किया जा सकता है। जिन लोगों को ड्राई स्किन की प्रॉब्लम है, वह भी मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन सर्दियों के दिनों में उन्हें इसके उपयोग से बचना चाहिए, वरना चेहरे पर ड्राइनेस आ सकती है। कुल मिलाकर, मुल्तानी मिट्टी सबसे अच्छी फेसपैक, क्लींजर और स्क्रब होती है।

कोई साइड इफेक्ट्स नहीं : मुल्तानी मिट्टी त्वचा से गंदगी साफ करने के लिए बहुत कारगर है और इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं। ऑयली त्वचा है, तो इसे गुलाबजल के साथ त्वचा पर लगाएं और ड्राई स्किन है, तो इसे बादाम के पेस्ट के साथ मिलाकर कुछ मिनट मसाज करें। इससे ब्लड का फ्लो ठीक बना रहता है।

कैसे करें इस्तेमाल

पेस्ट के रूप में : मुल्तानी मिट्टी को सीधे चेहरे पर पेस्ट के रूप में भी लगाया जा सकता है। इसे लगाने से स्किन पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता। इसके ज्यादा फायदे पाने के लिए आप घर पर ही मुल्तानी मिट्टी में दही, क्रीम, नींबू का रस और गुलाब जल को बराबर मात्रा में मिक्स कर लें। इसे फेस पर लगाएं, आपकी स्किन को कई तरह से फायदा होगा।

क्लींजर के रूप में : मुल्तानी मिट्टी में पाया जाने वाला मैग्नीशियम क्लोराइड चेहरे पर क्लींजर के रूप में काम करता है। अगर मुल्तानी मिट्टी को रोजाना सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए तो इससे चेहरा तो क्लीन रहता ही है, स्किन पर मुंहासे, पिंपल्स, झाइयां जैसी प्रॉब्लम्स भी पनप नहीं पाती हैं। यही नहीं, अगर आप इसे गाजर के जूस के साथ मिलाकर लगाती हैं, तो आप चेहरे के दाग-धब्बों से निजात पा सकती हैं।

नेचरल स्क्रबर : पिसे बादाम या संतरे के छिलके को पीसकर मुल्तानी मिट्टी के साथ मिला लें। इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट से दो से तीन मिनट फेस की मसाज करें। यह परफेक्ट स्क्रब का काम करता है। यह पेस्ट फेस के ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स को तो क्लीन कर ही देता है, साथ ही स्किन भी हेल्दी बनती है। डेड सेल्स को खत्म कर यह स्किन को डीपली क्लीन करता है इसलिए यह कहना गलत न होगा कि त्वचा की नियमित देखभाल के लिए मुल्तानी मिट्टी का उपयोग बेहतर है।


Share it
Top
To Top