व्हाइट ब्रेड खाने से शरीर को होते है ये नुकसान

व्हाइट ब्रेड खाने से शरीर को होते है ये नुकसान

ब्रेड खासकर व्हाइट ब्रेड में ऐसी कई चीजें होती हैं, जो हेल्थ को काफी नुकसान पहुंचाती हैं। व्हाइट ब्रेड में रिफाइंड फ्लोर होता है और फाइबर्स या विटामिन्स बिलकुल नहीं होते। ये वेट गेन, कैंसर और डायबिटीज का कारण बन सकती है। यहां हम विभिन्न स्टडीज के हवाले से ब्रेड के ऐसे ही फैक्ट्स के बारे में बता रहे हैं जो काफी शॉकिंग हैं। इन्हें पढ़ने के बाद हो सकता है आप ब्रेड खाना अवॉइड करें।

हार्ट पर असर – व्हाइट ब्रेड में प्रोटीन, विटामिन और फाइबर बिल्कुल नहीं होता हैं। इसमें सोडियम ज्यादा होता है जिससे हार्ट प्रॉब्लम बढ़ती हैं।

वजन पर असर – ब्रेड में शुगर ज्यादा होती है। जो लोग रोज़ ब्रेड खाते हैं, उनमें इसे खाने से तेजी से मोटापा बढ़ता है।

लिवर पर असर – अधिकांश ब्रेड मैदे से बनती हैं। मैदा आंतों में चिपक जाती है। इससे पेप्टिक अल्सर या लिवर डैमेज होने की संभावना रहती है।

नर्वस सिस्टम पर असर – व्हाइट ब्रेड को सफ़ेद बनाने के लिए ब्लीचिंग एजेंट्स डाले जाते हैं, जिसमें क्लोरीन की मात्रा अधिक होती हैं।

दांतो पर असर – इसमें स्टार्च की मात्रा अधिक होती है जिससे दांत खराब हो सकते हैं।

पेट पर असर – ब्रेड में ग्लूटेन की मात्रा अधिक होती है। इससे पेट दर्द, डायरिया जैसी प्रोबलम हो सकती है।

शुगर लेवल पर असर – इसमें कार्बोहाइड्रेट ज्यादा होता है। इससे बॉडी में शुगर लेवल बढ़ता है और डायबिटीज़ की प्रॉब्लम हो सकती है।

स्किन पर असर – व्हाइट ब्रेड में मौजूद सैचुरेटेड और ट्रांस फैट्स से बॉडी में सीबम प्रोड्यूस होते हैं जिससे स्किन ख़राब हो सकती है।

डाइजेशन पर असर – इसमें पोटैशियम आयोडेट की मात्रा अधिक होती है। ज्यादा ब्रेड खाने से पेट दर्द या उल्टियां हो सकती हैं।

बॉडी सेल्स पर असर – ब्रेड में पोटैशियम ब्रोमेट की मात्रा अधिक होती है। इससे बॉडी सेल्स को नुकसान पहुंचता है और कैंसर हो सकता है।


Share it
Top
To Top