इन उपायों से आप पा सकते हैं तेज़ दिमाग

इन उपायों से आप पा सकते हैं तेज़ दिमाग

चाहे पढ़ाई का क्षेत्र हो या जॉब का ,आज के दौर में हर कोई औरो से आगे निकलने के लिए तेज दिमाग चाहता है, मगर पर्यावरण और अन्य कारकों के प्रभाव के कारण हमारी स्मरण शक्ति कमज़ोर होती जाती है | आइंस्टाइन चाणक्य आदि कोई विशेष दिमाग लेकर नहीं आये थे, बस उनमें और साधारण मानव में इतना अंतर था कि वे अपने दिमाग को अन्य मनुष्यों से ज्यादा इस्तेमाल करना जानते थे | इसका एक ही कारण था दिमाग तो एकाग्र कर किसी विषय पर लगाने की क्षमता | आदि ये क्षमता हर व्यक्ति तो मिल जाए तो हर कोई , अपने क्षेत्र में सफलता के झंडे गाढ़ सकता है | हम आपको वह क्षमता तो नहीं दे सकते मगर आपको कुछ ऐसे तरीके बता सकते हैं जिनसे आप उस दिशा में अपनी स्मरण शक्ति को बढ़ा सकें |

स्मरण शक्ति बढ़ाने के दो मुख्य विकल्प हैं या तो भोजन द्वारा या व्यायाम द्वारा

भोजन द्वारा :

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए आवश्यक है उचित आहार और पोषक तत्वों की शरीर में संतुलित प्रचुरता | दिमाग को रीकॉल प्रोसेस के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, उन पोषक तत्वों को पूरा करने के लिए आप नीचे बताए गए उपाय अपना सकते है |

1. सोया के आटे में फायटोस्ट्रोजेन नामक प्लांट हार्मोन और विटामिन B अच्छी मात्रा में होता है जो दिमाग के लिए बहुत उपयोगी है |

2. लॉफबोरो यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में बताया कि सोया से बना आटा डिमेंशिया जैसे रोगों से बचाव में मदद करता है |

3. बढ़ती उम्र के साथ याददाश्त संबंधी समस्याओं से जुड़ रहे लोगों के लिए सोया आटे का सेवन काफी फायदेमंद है। फिलहाल हमने यह शोध चूहों पर किया है।

4. 10 बादाम रात को पानी में भिगो दें। सुबह छिलके उतारकर बारीक पीस कर पेस्ट बना लें और अब एक गिलास गर्म दूध में बादाम का पेस्ट घोल कर इसमें 3 चम्मच शहद भी डालें। दूध जब हल्का गर्म हो तब पिएं। यह मिश्रण पीने के बाद दो घंटे तक कुछ न खाएं।

5. ब्राह्मी स्मरण शक्ति बढ़ाने की मशहूर जड़ी-बूटी है। रोज इसका एक चम्मच रस और याददाश्त बेहतर बनाने में मदद करता है।

6. रोज सेब का सेवन करना भी स्मरण शक्ति के लिए बहुत फायदेमंद है।

7. एक गाजर और पत्ता गोभी के 10-12 पत्ते काट लें। इस पर हरा धनिया काटकर डाल दें। फिर उसमें सेंधा नमक, काली मिर्च का पावडर और नीबू का रस मिलाकर खूब चबा-चबाकर खाया करें।

8. भोजन के साथ एक गिलास छाछ भी पिया करें।

विद्यार्थियों के लिए विशेष :

9. रात को पढ़ाई करते समय आधे-आधे घंटे के अंतर पर आधा गिलास ठंडा पानी पीते रहें। वैसे 11 बजे से पहले सो जाना ही ठीक होता है।

10. लेटकर या झुककर नहीं पढ़ना चाहिए। रीढ़ की हड्डी सीधी रखकर बैठना चाहिए। इससे आलस्य या निद्रा का असर नहीं होगा और स्फूर्ति भी रहेगी।

11. सुस्ती महसूस हो तो थोड़ी चहल-कदमी कर लिया करें। नींद भगाने के लिए चाय या धूम्रपान का सेवन न करें।

मेंटल एक्सरसाइज द्वारा :

दिमाग तेज करने के लिए मेंटल एक्सरसाइज करना बहुत जरूरी है। वैसे तो दिमाग हर वक्त काम करता रहता है, लेकिन दिमाग को जटिलताओं में भी सहज रहने की आदत विकसित करने लिए मेंटल एनालेसिस, ब्रेन प्रेक्टिस, पजल गेम सॉल्व करें।

1. इसके लिए एक जानकारी को दूसरे से कनेक्ट करने की कोशिश करें और उनका गहनता से चिंतन करें। विद्यार्थियों के लिए ये तकनीक बहुत मददगार है।

2. सुडोकु और शतरंज जैसे खेल खेलें।

3. एक और बेहतरीन विधि है , दीवार पर एक बिंदु बनाइये और इसे बिना पलकें झपके देखते रहिये , इस प्रयोग को समय मिलते ही दोहराइए | एकाग्रता के साथ स्मरण शक्ति भी बढ़ेगी|

4. योगा और मेडिटेशन से ब्रेन को पर्याप्त ऑक्सीजन और खून मिलता है, जिसका सीधा असर मैमोरी पर पड़ता है और आपकी याददाश्त तेज होती है। दिमाग हर वक्त एक्टिव रहता है।

इसे तभी आराम मिलता है, जब आप सोते हैं।

5. अपने दिमाग को आराम देने और नई ऊर्जा के लिए आपको एक दिन में 7-9 घंटे की गहरी नींद लेनी चाहिए। इससे आपका दिमाग ज्यादा कुशलतापुर्वक काम कर पाएगा।

मेहंदी का नुस्खा :

मेहंदी और याददाश्त का कनेक्शन बहुत पुराना है । मेहंदी के पत्तों में बहुत शक्ति होती है। इसकी महक में कारनोसिक एसिड पाया जाता है। जिससे दिमाग की मांसपेशियां एक्टिव होती है। इससे खोई हुई याददाश्त भी वापस आ सकती है।

इसके अतिरिक्त

- सुबह का टहलना

- सूर्योदय से पहले उठना

- पेट साफ़ रखना

- तनाव से मुक्त रहना

आदि छोटी-छोटी बातों से आप अपनी स्मरण शक्ति बढ़ा सकते हैं।


Share it
Top
To Top