क्या आप जानते हैं कि मलेरिया क्या है?

क्या आप जानते हैं कि मलेरिया क्या है?

1 मलेरिया क्या है?

मलेरिया एक ऐसी बीमारी है, जो परजीवी रोगाणु की वजह से होती है। ये रोगाणु इतने छोटे होते हैं कि हम इन्हें देख नहीं सकते। मलेरिया के लक्षण हैं बुखार, कँपकँपी, पसीना आना, सिरदर्द, शरीर में दर्द, जी मचलना और उल्टी होना। कभी-कभी इसके लक्षण हर 48 से 72 घंटे में दोबारा दिखायी देते हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि एक व्यक्‍ति को कौन-से परजीवी की वजह से मलेरिया हुआ है और वह कब से बीमार है।

2 मलेरिया कैसे फैलता है?

मलेरिया एक परजीवी रोगाणु से होता है, जिसे प्लास्मोडियम कहते हैं। ये रोगाणु एनोफेलीज़ जाति के मादा मच्छर में होते हैं और जब यह किसी व्यक्‍ति को काटती है, तो उसके खून की नली में मलेरिया के रोगाणु फैल जाते हैं।

ये रोगाणु व्यक्‍ति के कलेजे की कोशिकाओं तक पहुँचते हैं और वहाँ इनकी गिनती बढ़ती है। जब कलेजे की कोशिका फटती है, तो ये रोगाणु व्यक्‍ति की लाल रक्‍त कोशिकाओं पर हमला करते हैं। जिस वजह से वे नष्ट हो जाती हैं जब लाल रक्‍त कोशिका फटती है, तो रोगाणु दूसरी लाल रक्‍त कोशिकाओं पर हमला करते हैं। रोगाणुओं का लाल रक्‍त कोशिकाओं पर हमला करने और कोशिकाओं के फटने का सिलसिला जारी रहता है। जब भी लाल रक्‍त कोशिका फटती है, तो व्यक्‍ति में मलेरिया के लक्षण नज़र आते हैं।

3 आप मलेरिया से अपना बचाव कैसे कर सकते हैं?

अगर आप ऐसे देश में रहते हैं जहाँ मलेरिया होना आम है, तो. . .

मच्छर-दानी लगाकर सोएँ और ध्यान रखें कि उस पर मच्छर मारनेवाली दवा लगी हो। उसमें कोई छेद न हो और वह कहीं से फटी न हो। वह अच्छी तरह लगी हो, ताकि मच्छर अंदर न आएँ। घर के अंदर मच्छर मारनेवाली दवा छिड़कें। घर के दरवाज़ों और खिड़कियों पर जाली लगाएँ और ऐ.सी. और पंखों का इस्तेमाल करें, ताकि मच्छर एक जगह पर न बैठें। हलके रंग के कपड़े पहनिए जिनसे आपका शरीर पूरी तरह ढका हो। ऐसी जगह पर मत जाइए, जहाँ झाड़ियाँ हों क्योंकि वहाँ बहुत मच्छर होते हैं, या जहाँ पानी इकट्ठा हो क्योंकि वहाँ मच्छर पनपने का खतरा होता है। अगर आपको मलेरिया हो गया है, तो फौरन इलाज करवाएँ।

मच्छरों से इंसानों में मलेरिया कैसे फैलता है

किसी संक्रमित मच्छर के काटने से एक व्यक्‍ति में मलेरिया के रोगाणु आ सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ, एक संक्रमित व्यक्‍ति को काटने से एक मच्छर में मलेरिया के रोगाणु आ सकते हैं। उसके बाद अगर वह मच्छर किसी दूसरे इंसान को काटे, तो उसे भी मलेरिया हो सकता है। अगर आपको मलेरिया हो जाता है, तो फौरन इलाज करवाएँ। इस बात को ध्यान में रखिए कि मलेरिया के मच्छर के काटने के 1 से 4 हफ्ते बाद बीमारी के लक्षण नज़र आ सकते हैं।

आप और क्या कर सकते हैं?

सरकार की तरफ से मुफ्त इलाज के इंतज़ाम का फायदा उठाइए। सिर्फ ऐसी जगहों से दवाई लीजिए, जिन्हें सरकार से मान्यता मिली हो। (नकली दवाइयाँ लेने से बीमारी काफी समय तक रहती है और जान जाने का भी खतरा रहता है।) ध्यान रखिए कि आपके घर में या उसके आस-पास कहीं मच्छर न पनपें।


Share it
Top
To Top